join Telegram channel Join Now
join WhatsApp channel Join Now

कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज | Computer Ke Bare Mein General Knowledge

कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज (computer ke bare mein general knowledge) के बारे में आज हम जानने वाले हैं, और कई सारे लोगों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब भी इसी लेख में हम जानेंगे।

आजकल देखा जाए तो कंप्यूटर का जानकारी हर किसी को है अर्थात हर कोई कंप्यूटर को चला सकते हैं लेकिन कंप्यूटर के बारे में बेसिक जानकारी हर किसी को नहीं है।

कंप्यूटर को चलाना और कंप्यूटर के बारे में जानना दोनों अलग-अलग चीजें हैं कंप्यूटर को तो हर कोई चला सकता है लेकिन कंप्यूटर के बारे में हर कोई नहीं जान सकता है उसके लिए आपको पढ़ाई करनी पड़ती है।

लेकिन अब आप फिक्र नहीं करें क्योंकि आपको इस लेख में कंप्यूटर के बारे में सभी प्रकार का नॉलेज मिल जाएगा और सभी प्रकार की बेसिक जानकारी भी दी जाएगी।

जिसे आप पढ़कर कंप्यूटर के बारे में नॉलेज हासिल कर सकते हैं और कंप्यूटर के बारे में जान सकते हैं कि कंप्यूटर आखिर में क्या है कैसे कंप्यूटर काम करता है।

कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज | कंप्यूटर का जन्म कब हुआ था
कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज | कंप्यूटर का जन्म कब हुआ था

यदि आप कंप्यूटर विषय का अध्ययन करना चाहते हैं तो कंप्यूटर में आपकी अच्छी खासी पकड़ होनी चाहिए जिसके लिए आप को कंप्यूटर का बेसिक नॉलेज का जानकारी होना चाहिए।

उसके बाद ही आप एक कंप्यूटर में एक्सपर्ट बन सकते हैं तो चली कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज को आज हम इस लेख में जानते हैं।

तो आप इस लेख को पूरा अंत तक पढ़ा था कि आपको पता चल सके कि कंकंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज (computer ke bare mein general knowledge) क्या-क्या है।

इसकी जानकारी को आप बारीकी से जान सकते हैं और इससे आप अच्छे से समझ सके ताकि आपको भविष्य में कभी भी दिक्कत नहीं हो तो आप इस लेख को अच्छे से और बारीकी से समझें।

कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज | Computer Ke Bare Mein General Knowledge

कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज का मतलब होता है कि कंप्यूटर की बेसिक जानकारी या कंप्यूटर के ऐसे जानकारी जो हर किसी को जाना चाहिए।

तो आपको बता दें कि कंप्यूटर को हिंदी में संगणक कहा जाता है और कंप्यूटर का आविष्कार चार्ल्स बैबेज ने किया था।

कंप्यूटर “Computer” शब्द का अविष्कार ग्रीक भाषा के “Compute” तथा लैटिन भाषा के “Computare” से बना है। जिसे बनाने का उद्देश्य था कि यह गणना तेजी से कर सके।

लेकिन आजकल लगभग सभी कामों को कंप्यूटर के द्वारा ही किया जाता है और कंप्यूटर की विशेषता आजकल बहुत अधिक बढ़ गई है क्योंकि हर एक सेक्टर में आपको कंप्यूटर से ही कार्य करते दिखता है।

कंप्यूटर के बारे में कहा जाए तो कंप्यूटर एक ऐसा डिवाइस होता है जिसके द्वारा किसी भी तरह के डाटा कैलकुलेशन से संबंधित कार्य को बहुत ही आसानी से और कम से कम समय में अच्छे तरीके से किया जा सकता है।

इतना ही नहीं कंप्यूटर से इसके अलावा भी दुनिया भर के कई सारे कार्य किए जाते हैं जैसे कि वीएफएक्स, वीडियो मिक्सिंग, प्रोग्रामिंग या और भी कई तरह के कार्य कंप्यूटर से किए जाते हैं।

चलिए अब हम कंप्यूटर के फुलफॉर्म को जानते हैं या कंप्यूटर के पूरा नाम जानते हैं जो कि निम्नलिखित है।

Computer का Full Form क्या है

C – Commonly (सामान्य)

O – Operated (संचालित)

M – Machine (यंत्र)

P – Particularly (विशेष रूप)

U – Used for (प्रयुक्‍त)

T – Technical and (तकनीकी)

E – Educational (शैक्षिणिक)

R – Research (अनुसंधान)

जैसा कि हमने जाना कि कंप्यूटर एक प्रकार का मशीन होता है जो कि हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर से बना हुआ होता है इसकी बनावट 2 तरीकों से होती है पहला हार्डवेयर और दूसरा सॉफ्टवेयर।

हार्ड वेयर वह होता है जिसे हम स्पर्श कर सकते हैं या जिसे हम देख सकते हैं और सॉफ्टवेयर वह होता है जिसे कंप्यूटर को ऑपरेट किया जाता है।

सॉफ्टवेयर के जरिए ही कंप्यूटर को चलाया जा सकता है बिना सॉफ्टवेयर से कंप्यूटर एक खाली डब्बा के समान होता है अर्थात बिना सोफ्टवेयर के कंप्यूटर किसी कार्य का नहीं होता है।

चलिए अब हम जानते हैं कि कंप्यूटर के कितने भाग होते हैं अर्थात कंप्यूटर कितने भाग से बने हुए हैं जो कि निम्नलिखित है।

कंप्यूटर के भाग

कंप्यूटर के भाग के बारे में बात किया जाए तो कंप्यूटर दो भागों से बना होता है और दोनों भागों की व्याख्या नीचे दी गई है।

  1. सॉफ्टवेयर (Software)
  2. हार्ड वेयर (Hardware)

Software क्या है

सॉफ्टवेयर के बारे में बात किया जाए तो सॉफ्टवेयर एक कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होता है जिसे कंप्यूटर पर रनर कराया जाता है जिसके बाद ही कंप्यूटर को चलाने योग्य बनाया जाता है।

बिना सॉफ्टवेयर को रन कराए कंप्यूटर किसी काम का नहीं रहता है अर्थात बिना सॉफ्टवेयर उसमें अपलोड किए कंप्यूटर को चलाना असंभव है।

सॉफ्टवेयर के बिना कंप्यूटर किसी काम का नहीं है इसलिए कंप्यूटर में दो सबसे जरूरी चीजें होती है पहली हार्डवेयर और दूसरा सॉफ्टवेयर।

सॉफ्टवेयर दो प्रकार के होते हैं पहला सिस्टम सॉफ्टवेयर और दूसरा एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर सिस्टम सॉफ्टवेयर वह होता है जिसे कंप्यूटर को यूजर को आसानी से चलाने के लिए इंस्टॉल किया जाता है।

और दूसरा एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर होता है जिसे कभी भी आप इंस्टॉल या अनइनस्टॉल या रिमूव कर सकते हैं वह आपके चलाने के लिए होता है अर्थात यूजर के फैसिलिटी के ऊपर एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को बनाया जाता है।

ऊपर हमें सॉफ्टवेयर के बारे में जाना और समझा चलिए अब हम हार्डवेयर के बारे में जानते हैं और समझते हैं कि हार्डवेयर क्या है और हार्डवेयर की बेसिक जानकारी क्या-क्या है।

Hardware क्या है | Hardware की basic जानकारी

कंप्यूटर हार्डवेयर के बारे में बात किया जाए तो कंप्यूटर हार्डवेयर कंप्यूटर के वह पार्ट्स होते हैं जो हम देख सकते हैं या स्पर्श कर सकते हैं।

इन पार्ट्स को मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल या इलेक्ट्रॉनिक पार्ट्स भी कहा जाता है यह कंप्यूटर में अलग-अलग तरह के हार्डवेयर पार्ट्स से मिलकर बनते हैं।

एक कंप्यूटर को बनाने के लिए बहुत सारे हार्डवेयर पार्ट्स की जरूरत पड़ती है वह सभी पार्ट्स निम्नलिखित हैं।

  • CPU 
  • HDD 
  • RAM 
  • ROM 
  • DVD 
  • Motherboard
  • Monitor/LCD – 
  • Keyboard
  • Mouse

ऊपर दिए गए हार्डवेयर का नाम यह सब एक कंपलसरी और इंपॉर्टेंट हार्डवेयर होता है इसके अलावा भी कई सारे हार्डवेयर होते हैं जिसे हम कार्य के अनुसार या कार्य के अनुरूप प्रयोग में ला सकते हैं।

यह भी पढ़ें :-DCA me kitne subject hote hai

कंप्यूटर में सबसे इंपोर्टेंट क्या होता है?

कंप्यूटर में सबसे इंपोर्टेंट चीज के बारे में बात किया जाए तो कंप्यूटर का सबसे इंपॉर्टेंट सीपीयू होता है क्योंकि सीपीयू को कंप्यूटर का माइंड कहा जाता है।

सीपीयू से ही पूरा कंप्यूटर कंट्रोल होता है और सीपीयू में हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर दोनों का प्रयोग किया जाता है।

कंप्यूटर में सबसे इंपोर्टेंट चीज के बारे में बात किया जाए तो यह भी हो सकता है कि सॉफ्टवेयर एक सबसे इंपोर्टेंट चीज माना जाता है क्योंकि सॉफ्टवेयर के बिना कंप्यूटर नहीं चलाया जा सकता है।

हालांकि ऐसे कंप्यूटर का सबसे इंपोर्टेंट चीज के बारे में बताया जाए तो कंप्यूटर के सभी पार्ट्स इंपॉर्टेंट ही होते हैं लेकिन कुछ पार्ट्स के बिना भी हम कंप्यूटर पर काम कर सकते हैं और कुछ कम पार्ट्स के बिना हम कंप्यूटर पर काम नहीं कर सकते हैं।

इसलिए कंप्यूटर के सभी पार्ट्स इंपोर्टेंट है और कंप्यूटर के सभी पार्ट्स के साथ काम करने में आसानी होती है और हम तेजी से काम भी कर सकते हैं।

जरुर पढ़ें :-12 वीं के बाद कंप्यूटर कोर्स सूची

कंप्यूटर का जन्म कब हुआ था?

कंप्यूटर का जन्म के बारे में बात किया जाए तो कंप्यूटर का जन्म सन 1822 ई0 में चार्ल्स बैबेज के द्वारा किया गया था।

आपको बता दें कि चार्ल्स बैबेज के द्वारा बनाया गया कंप्यूटर मैकेनिकल कंप्यूटर था जो कि दुनिया का सबसे पहला कंप्यूटर था उसके बाद कई सारे कंप्यूटर प्रचलित में आ गए।

आपको यह भी जानना बेहद जरूरी है कि चार्ल्स बैबेज को कंप्यूटर के पिता (फादर ऑफ कंप्यूटर) भी कहा जाता है।

जरुर पढ़ें :-जीएसटी में करियर कैसे बनाएं 

कंप्यूटर के कितने अंग होते हैं?

कंप्यूटर के अंग के बारे में बात किया जाए या कंप्यूटर के भाग के बारे में बात किया जाए तो कंप्यूटर के 2 भाग होते हैं।

पहले भाग को हार्डवेयर कहा जाता है तथा दूसरे भाग को सॉफ्टवेयर कहा जाता है और इन दोनों भागों का होना बहुत ही जरूरी है क्योंकि इन दोनों में किसी एक के बिना कंप्यूटर को नहीं चलाया जा सकता है।

हार्डवेयर के बारे में बात किया जाए तो हार्डवेयर वह होता है जिसे हम देख सकते हैं जैसे सीपीयू के अंदर  मदरबोर्ड, रैम, हार्ड डिस्क, एसएसडी, डीवीडी ड्राइवर, माउस, कीबोर्ड इत्यादि।

और सॉफ्टवेयर वह होता है जिसे हम कंप्यूटर पर रन कराते हैं अर्थात जिससे हम कंप्यूटर चलाते हैं।

यह भी पढ़ें :-बैंक की नौकरी कैसे मिलती है

लैपटॉप का पूरा नाम क्या है?

काफी सारे लोगों द्वारा यह सवाल पूछा गया कि लैपटॉप का पूरा नाम क्या है तो चलिए आज हम जानते हैं कि लैपटॉप का पूरा नाम क्या है जो कि निम्नलिखित है।

लैपटॉप का पुरा नाम

L :- Lightweight 

A :- Analytical 

P :- Platform with 

T :- Total 

O :- Optimized 

P :- Power

लैपटॉप कब बना था?

लैपटॉप को एडम ओसबोर्न ने 1981 में जारी किया गया था जिसके बाद बाजार में कई सारे लैपटॉप के वर्जन आ गए और तहलका मचा दिए।

लैपटॉप एक ऐसा डिवाइस है जिसे हम कहीं भी आसानी से ले जा सकते हैं और आसानी से कार्य को कर सकते हैं।

मोबाइल का फुल फॉर्म क्या है?

काफी सारे लोगों के द्वारा मोबाइल का फुलफॉर्म पूछा गया था तो आज हम जानते हैं कि मोबाइल का फुल फॉर्म आखिर में क्या होता है।

तो चलिए जानते हैं कि मोबाइल का फुल फॉर्म क्या होता है जो कि निम्नलिखित दिया गया है।

Mobile की फुल फॉर्म 

M :- Modified 

O :- Operation 

B :- Byte 

I :- Integration

L :- Limited 

E :- Energy

ऊपर दिया गया मोबाइल का फुल फॉर्म है इससे पहले कि आपको पता था कि मोबाइल का फुल फॉर्म इतना बड़ा होता है जो कि आप दिनभर चलाते हैं कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं।

CONCLUSION :- कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज | Computer Ke Bare Mein General Knowledge

आज के इस लेख के माध्यम से हमने जाना कि कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज (computer ke bare mein general knowledge) क्या क्या है, और साथ ही लोगों द्वारा पूछे गए कुछ सवालों के जवाब भी जाना।

आप कंप्यूटर के बारे में बेसिक जानकारी के साथ-साथ एडवांस का भी नॉलेज प्राप्त करत लें,ताकि आपको भविष्य में भी किसी प्रकार का दिक्कत का सामना ना करना पड़े और आप आसानी से कंप्यूटर को ऑपरेट कर पाए।

हमको उम्मीद है कि आज का यह लेख कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज (computer ke bare mein general knowledge) आपको काफी अच्छा लगा होगा।

और इस लेख को पढ़कर Computer से संबंधित सभी प्रकार के सवालों का जवाब मिल गए होंगे यदि आपको कोई और जानकारी चाहिए तो आप कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं।

यह भी पढ़ें :-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *