डी फार्मा करने के फायदे? | D Pharma karne ke fayde -

डी फार्मा करने के फायदे? | D Pharma karne ke fayde

डी फार्मा करने के फायदे? (D Pharma karne ke fayde) क्या क्या हैं आज के इस लेख के माध्यम से जानने वाले हैं और साथ ही डी फार्मा से संबंधित कई सारे प्रश्नों के उत्तर आज हम जानेंगे। 

डी फार्मा के बारे में बात करें तो डी फार्मा का फुल फॉर्म डिप्लोमा इन फार्मेसी होता है इस कोर्स में फार्मेसी के क्षेत्र में बहुत सारे ज्ञान प्रदान करता है।

बहुत सारे छात्र मेडिकल के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं और बहुत सारे छात्र अपना खुद का स्टार्टअप भी शुरू करना चाहते हैं।

डी फार्मा करने के फायदे? | D Pharma karne ke fayde
डी फार्मा करने के फायदे? | D Pharma karne ke fayde

आज के इस लेख के माध्यम से हम जानने वाले हैं कि डी फार्मा करने के फायदे? (D Pharma karne ke fayde) क्या-क्या है।

आप इस लेखक को पूरा अंत तक पढ़े ताकि आपको डी फार्मा के सभी प्रकार के फायदे अच्छे से समझ में आ जाए क्योंकि इस लेख में डी फार्मा के कई सारे फायदे बताया गया है।

Table of Contents

डी फार्मा करने के फायदे? | D Pharma karne ke fayde

डी फार्मा करने के बाद आप अपना खुद का मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं तथा कई सारे फार्मासिस्ट कंपनी में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं इसके अलावा भी आप टीचर बन सकते हैं या रिसर्च में अपना कैरियर बना सकते हैं।

इस कोर्स को करने के बाद आप एक शिक्षक बन सकते हैं तथा आप अपने नजदीकी अस्पताल या स्थानीय जगहों पर सीधे नौकरी पा सकते हैं।

इसके अलावा भी डी फार्मा के कई सारे फायदे हैं, चलिए अब हम डी फार्मा के सभी प्रकार के फायदे को बारीकी से जानते हैं जिसमें आप अपना करियर बना सकते हैं।

वैज्ञानिक अधिकारी बन सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद आप एक वैज्ञानिक अधिकारी भी बन सकते हैं क्योंकि डी फार्मा कोर्स को करने के बाद मेडिकल के क्षेत्र में आप आगे बढ़ सकते हैं और वैज्ञानिक बन सकते हैं।

आप चाहे तो डी फार्मा कोर्स को करने के बाद इससे आगे भी पढ़ाई कर सकते हैं जिसमें आपको वैज्ञानिक बनाने में काफी मदद मिल सकती है।

खुद का मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद आप खुद का मेडिकल स्टोर पर खोल सकते हैं आपको बता दें कि मेडिकल स्टोर खोलने के लिए डी फार्मा कोर्स का होना बहुत जरूरी है।

यदि आपकी फार्मा कोर्स को नहीं करते हैं तो आप खुद का अपना मेडिकल स्टोर नहीं खोल सकते हैं।

मेडिकल स्टोर में काम कर सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स करने के बाद आप आसानी से मेडिकल स्टोर में जॉब प्राप्त कर सकते हैं आपको बता दें कि आपके ही शहर में बहुत सारे मेडिकल स्टोर मौजूद होंगे जिसमें आप जॉब कर सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद आपके मेडिकल स्टोर में आसानी से जो प्राप्त कर सकते हैं।

कई सारे फार्मासिस्ट कंपनी में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद कई सारे फरमासिस्ट कंपनी में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि बहुत सारे फरमासिस्ट कंपनी में डी फार्मा छात्र को आसानी से जॉब दे देती है।

रिसर्च में अपना करियर बना सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद आप रिसर्च के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं और आगे पढ़ाई भी जारी रख सकते हैं जिससे आपको भविष्य में बहुत सारे फायदे होने वाले हैं।

शिक्षक बन सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद आप एक शिक्षक भी बन सकते हैं और कई सारे कॉलेज आ इंस्टिट्यूट में बच्चे को पढ़ा सकते हैं जिसमें आपको अच्छी खासी सैलरी भी दी जाती है।

स्थानीय मेडिकल क्षेत्र में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद स्थानीय मेडिकल क्षेत्र में आपको नौकरी मिल जाती है आपको बता दें कि स्थानीय जगहों पर नौकरी मिलना काफी कठिन होता है, लेकिन यदि आप डी फार्मा कोर्स को करते हैं तो आपको आसानी से कहीं भी नौकरी प्राप्त हो जाती है।

नजदीकी अस्पताल में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।

यदि आप नहीं दिखे अस्पताल में नौकरी करना चाहते हैं तो आपके फार्मा कोर्स के जरिए नजदीकी अस्पताल में भी नौकरी कर सकते हैं।

सरकारी अस्पताल में थोड़ी समस्या हो सकती है लेकिन सरकारी अस्पताल में अभी आपको नौकरी जरूर मिल जाएगी लेकिन यदि आप बी फार्मा कर लिए हैं तो आपको प्राइवेट अस्पताल में आसानी से नौकरी मिल जाएगी।

विदेशों में भी नौकरी पा सकते हैं।

आपको बता दें कि यदि आप डी फार्मा कोर्स को कर लिए हैं तो आप विदेशों में भी नौकरी प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि डी फार्मा के छात्र को विदेशों में भी काफी अधिक मांग है।

दिखाना को स्कोर करने के बाद आप विदेश में अपना लाइफ सेटल कर सकते हैं या विदेश में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं और इसके साथ-साथ आगे की पढ़ाई भी जारी रख सकते हैं।

सर्जन डॉक्टर कैसे बने

डी फार्मा करने के बाद कौन सी नौकरी मिलती है?

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद आप मेडिकल के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं तथा मेडिकल के क्षेत्र में कई सारे नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद आप मेडिकल स्टोर में नौकरी पा सकते हैं या अपना खुद का मेडिकल स्टोर भी खोल सकते हैं और खुद का व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद आप सरकारी तथा प्राइवेट अस्पतालों में फार्मासिस्ट के तौर पर जो प्राप्त कर सकते हैं जिसमें आपको आसानी से किसी भी अस्पताल में नौकरी मिल जाती है।

इस कोर्स को करने के बाद आप स्थानीय मेडिकल के क्षेत्र में भी नौकरी पा सकते हैं जैसे कि आप किसी भी हेल्थ सेंटर में नौकरी कर सकते हैं या फिर एनजीओ में कार्य कर सकते हैं।

इसके अलावा जाती आप इस कोर्स को कर लिए हैं तो आपको कई सारे हेल्थ सेंटर या मेडिकल के सेक्टर में फार्मासिस्ट के लिए नौकरी मिल सकती है।

जीएनएम कोर्स की फीस कितनी है?

डी फार्मा करने के बाद कितनी सैलरी मिलती है?

डी फार्मा कोर्स को करने के बाद सैलरी की बात की जाए तो सभी जगह पर सैलरी अलग-अलग होती है तथा प्राइवेट या सरकारी सेक्टर की भी सैलरी अलग-अलग होती है।

यदि आप प्राइवेट सेक्टर में जॉब करते हैं तो आपकी सैलरी लगभग ₹15000 से ₹35000 के बीच हो सकती है तथा यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप किस जगह पर कार्य कर रहे हैं।

यदि आप किसी बड़े इंस्टिट्यूट या फिर किसी बड़े अस्पताल में कार्य कर रहे हैं तो आपकी सैलरी 35000 से भी ज्यादा हो सकती है।

वहीं यदि आप सरकारी सेक्टर या फिर सरकारी अस्पताल में कार्य कर रहे हैं तो आपकी सैलरी शुरुआती में तो ₹15000 ही होती है लेकिन यह सैलरी लगभग ₹50000 से लेकर ₹60000 तक भी हो सकती है।

आपको यह जानकर खुशी होगी कि आपकी सैलरी शुरुआती दौर पर कम होती है लेकिन आप का एक्सपीरियंस बढ़ने के साथ-साथ सैलरी भी बढ़ती है।

आप किसी भी सेक्टर में काम कर रहे हैं चाहे वह सरकारी सेक्टर हो या प्राइवेट सेक्टर एक्सपीरियंस के साथ सैलरी अवश्य बढ़ती है।

इसके अलावा यदि आप विदेशों में नौकरी करते हैं या फिर विदेश में नौकरी करना चाहते हैं तो आपको बता दें कि भारत के मुकाबले विदेश में ज्यादा सैलरी दी जाती है।

Gnm की सैलरी कितनी होती है

D फार्मा की 1 साल की फीस कितनी है?

आपको बता दें कि डी फार्मा की 1 साल की फीस सरकारी संस्थानों तथा प्राइवेट संस्थानों में अलग-अलग होती है।

यदि आप डी फार्मा कोर्स को सरकारी संस्थानों से करते हैं तो वहां आपकी फ़ीस काफी कम ली जाती है तथा अलग-अलग कॉलेजों में भी अलग-अलग फीस होती है।

सरकारी संस्थानों में डी फार्मा कोर्स की 1 साल की फीस लगभग ₹30000 से लेकर ₹45000 तक होती है तथा कुछ-कुछ कॉलेजों में ₹45000 से भी अधिक फीस ली जाती है।

वही यदि हम प्राइवेट संस्थानों की बात करें तो प्राइवेट संस्थानों में डी फार्मा की 1 साल की फीस लगभग ₹45000 से लेकर ₹100000 तक होती है तथा कुछ कुछ कॉलेजों में इससे कम या ज्यादा हो सकती है।

वहीं यदि आप डी फार्मा कोर्स को विदेशों से करना चाहते हैं तो विदेशों मे डी फार्मा की फीस अलग-अलग होती है लेकिन अनुपातिक तौर पर देखा जाए तो इसकी फीस लगभग प्रतिवर्ष ₹1000000 से लेकर ₹2000000 तक हो सकती है।

तथा यदि आप डी फार्मा कोर्स को करना चाहते हैं तो आप जिस कॉलेज से कर रहे हैं या जिस कॉलेज से करना चाहते हैं उस कॉलेज में पता कर सकते हैं।

क्योंकि सभी कॉलेजों की फीस का सटीक जानकारी देना संभव नहीं है इसलिए एक अनुपातिक फ़ीस बताया गया है इसलिए आप अपने नजदीकी कॉलेज में अवश्य पता कर लें।

बी फार्मा के बाद गवर्नमेंट जॉब

डी फार्मा में कितने पेपर होते हैं?

आपको बता दें कि डी फार्मा 2 वर्ष का कोर्स होता है जिसमें 4 सेमेस्टर होते हैं तथा प्रत्येक वर्ष 2 सेमेस्टर को पूरा कराया जाता है।

डी फार्मा के फर्स्ट ईयर में लगभग 7 सब्जेक्ट को पढ़ाए जाते हैं जिसे दोनों सेमेस्टर में पढ़ाया जाता है वह सभी सब्जेक्ट निम्नलिखित है।

  • Pharmaceutics-1
  • Pharmaceutical Chemistry-1
  • Pharmacology
  • Biochemistry & Clinical Pathology
  • Health Education & Community Pharmacy
  • Human Anatomy & Physiology
  • Pharmaceutics- 1

इसके अलावा भी दो या तीन सब्जेक्ट ऑप्शनल होते हैं जिन्हें फर्स्ट ईयर में ही पढ़ाए जाते हैं तथा दोनों सेमेस्टर में विभक्त किए हुए हैं।

चलिए अब हम बात करते हैं सेकंड ईयर की तो आपको बता दें कि सेकंड ईयर में भी 2 सेमेस्टर होते हैं तथा सेकंड ईयर में भी लगभग इतना ही सब्जेक्ट होते हैं जो कि निम्नलिखित है।

  • Pharmaceutics
  • Pharmaceutical chemistry
  • Pharmacognosy toxicology
  • Pharmaceutical jurisprudence
  • Drugstore business management
  • Hospital clinical pharmacy

इसके अलावा भी सेकंड ईयर में भी कुछ ऑप्शनल सब्जेक्ट होते हैं जिसे दोनों सेमेस्टर में पढ़ाए जाते हैं।

आपको बता दें कि फर्स्ट ईयर में जो सब्जेक्ट होते हैं सेकंड ईयर में भी लगभग लगभग वही सब्जेक्ट पढ़ाए जाते हैं जो पार्ट वाइज डिवाइड होता है।

अर्थात फर्स्ट ईयर में पहला भाग को पढ़ा जाता है तथा सेकंड ईयर में दूसरा भाग को पढ़ाया जाता है जिसमें सेमेस्टर वाइज भी पढ़ाई होती है।

बी फार्मा की फीस कितनी है?

डी फार्मा की उम्र कितनी है?

आपको बता दें कि डी फार्मा कोर्स को करने के लिए आपकी उम्र कम से कम 17 वर्ष होनी चाहिए अर्थात 17 वर्ष से कम उम्र वाले डी फार्मा कोर्स को नहीं कर सकते हैं।

डी फार्मा कोर्स को करने के लिए आपकी उम्र 17 वर्ष से अधिक होनी चाहिए तथा 40 वर्ष तक आप बी फार्मा कोर्स को कर सकते हैं अर्थात यदि आपकी आयु 40 वर्ष से ज्यादा है तो आप ली फार्मा कोर्स को नहीं कर सकते हैं।

एमबीबीएस का कोर्स कितने साल का होता है

CONCLUSION:- डी फार्मा करने के फायदे? | D Pharma karne ke fayde

आज के इस लेख के माध्यम से हमने जाना कि डी फार्मा करने के फायदे? (D Pharma karne ke fayde) क्या क्या हैं, तथा डी फार्मा से संबंधित और भी कई सारे सवालों का जवाब आज हम जाने हैं।

आज का यह लेख जिसमें हमने डी फार्मा करने के फायदे? (D Pharma karne ke fayde) के बारे में बताया है आपको कैसा लगा आप अपना राय जरूर दें।

इसके अलावा भी यदि आपके मन में किसी भी प्रकार का सवाल है या डी फार्मा से संबंधित कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

आपके सवाल का जवाब जल्द से जल्द दिया जाएगा हमारे वेबसाइट fullygyan में आने के लिए आपका धन्यवाद।

एमबीबीएस का कोर्स कितने साल का होता है
बी फार्मा की फीस कितनी है?
बी फार्मा के बाद गवर्नमेंट जॉब
Gnm की सैलरी कितनी होती है

Leave a Comment