जीडीएस की सैलरी कितनी होती है? | How much is the salary in GDS

जीडीएस की सैलरी कितनी होती है? (GDS ki Salary Kitni hoti hai) (How much is the salary in GDS) आपके इस लेख के माध्यम से हम जानने वाले हैं और जीडीएस से संबंधित कई सारे लोगों का सवालों का जवाब आज हम जानेंगे। 

जीडीएस का फुल फॉर्म ग्रामीण डाक सेवा होता है जिसे आमतौर बोलचाल की भाषा में डाकिया या पोस्टमैन कहा जाता है।

एक जीनियस का काम होता है कि वह चिट्ठियां कोरियर को उसके सही पते पर पहुंचाएं जो की पोस्ट ऑफिस द्वारा कार्य किया जाता है।

जीडीएस की सैलरी कितनी होती है? | How much is the salary in GDS | GDS ki Salary Kitni hoti hai
जीडीएस की सैलरी कितनी होती है? | How much is the salary in GDS | GDS ki Salary Kitni hoti hai

बहुत सारे छात्र जीडीएस की नौकरी करना चाहते हैं और ग्रामीण डाक सेवा में अपना करियर बनाना चाहते हैं ऐसे में काफी सारे छात्रों को यह पता नहीं है कि जीडीएस में कैसे जाएं।

काफी सारे छात्रों का यह सवाल भी है कि जीडीएस की सैलरी कितनी होती है? (GDS ki Salary Kitni hoti hai) (How much is the salary in GDS) तो चलिए आज के इस लेख के माध्यम से हम जाने वाले हैं।

आप इस लेख को पूरा अंत तक पढ़े ताकि जीडीएस से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी आपको अच्छे से समझ में आ जाए और किसी भी प्रकार की दिक्कत आपको ना हो।

Table of Contents

जीडीएस की सैलरी कितनी होती है? (How much is the salary in GDS)

जीडीएस की सैलरी ₹12000 से ₹29380 तक मासिक होती है कुछ-कुछ पदों में जीडीएस की सैलरी ₹10000 से आरंभ होती है जो कि ₹30000 तक हो सकती है।

gds की सैलरी प्रत्येक राज्य में अलग अलग होती है आप अपने राज्य के अनुसार पता कर सकते हैं कि आपके राज्य में gds की सैलरी कितनी है, जो कि आपको gds के official वेबसाईट में पता चल जाएगा।

डाक विभाग में नवनियुक्त जीडीएस को सातवें वेतन आयोग के अनुसार ₹21700 से ₹69100 तक प्रति माह वेतन दिया जाता है।

जीडीएस की सैलरी अलग अलग राज्य में अलग-अलग हो सकती है अर्थात आप जिस राज्य में है उस राज्य की जीपीएस की सैलरी अन्य राज्य की जीडीएस की सैलरी से अलग हो सकती है।

एक जीडीएस के अनुपातिक सैलरी लगभग ₹10000 से ₹30000 तक होती है जिसकी शुरुआती सैलरी ₹10000 होती है लेकिन धीरे-धीरे यह सैलरी बढ़ कर ₹30000 तक हो जाती है।

आपको बता दें कि एक जीडीएस को सैलरी के अलावा भी कई सारी सुविधाएं दिए जाते हैं जैसे पेट्रोल के खर्च महंगाई भत्ते इत्यादि सैलरी के अलावा दिए जाते हैं जिसे सैलरी में नहीं जोड़ा जाता है।

कुछ-कुछ राज्य में जीडीएस की सैलरी ₹12000 से स्टार्ट होती है जो ₹40000 तक होती है यदि आप उस राज्य के अंतर्गत आते हैं तो आपको ज्यादा सैलरी मिल सकती है।

जीनियस का ऑफिशियल वेबसाइट को आप चेक कर सकते हैं और वहां से आपको पता चल जाएगा कि आपके राज्य में जेडीएस का वेतन कितना है।

कुछ-कुछ राज्यों में जीडीएस का वेतन ₹70000 तक भी दिए जाते हैं तो कुछ राज्यों में ₹12000 जीडीएस का वेतन होता है यह राज्य के अनुसार तय किए जाते हैं।

यदि आपको जेडीएस के वेतन की सटीक जानकारी चाहिए तो आप जीडीएस की ऑफिशियल वेबसाइट को चेक कर सकते हैं ऑफिशियल वेबसाइट में आपको जीडीएस से संबंधित कई सारे सवालों के जवाब भी मिल जाएंगे।

किसी पार्टिकुलर राज्य का वेतन बता पाना बहुत मुश्किल होता है इसलिए ऊपर हमने अनुपातिक तौर पर वेतन को लगभग में बताया है आपको जल्दी सटीक जानकारी चाहिए तो आप जीडीएस की ऑफिशल वेबसाइट में पता कर सकते हैं वहां पर आपको आपके राज्य की जीडीएस की सैलरी की मिल जाएगी।

यह भी पढ़ें :-कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज

जीडीएस का सबसे ज्यादा वेतन कितना है?

जीडीएस में सबसे अधिक भुगतान वाली नौकरी प्रतिवर्ष 2.6 लाख रुपए वेतन के साथ एक टीम लीड होता है जिसे लगभग प्रतिवर्ष ₹300000 तक भी दिया जाता है।

आपको बता दें कि जीडीएस का वेतन प्रत्येक राज्य में अलग-अलग होता है अर्थात आप जिस राज्य में रह रहे हैं उस राज्य का वेतन और दूसरे अन्य राज्य का वेतन अलग अलग हो सकती है।

यदि आप जीडीएस मैं जॉब करना चाहते है तो आप जीडीएस का ऑफिशियल वेबसाइट में जाकर चेक कर सकते हैं कि आपके राज्य में जीडीएस का वेतन कितना है।

एक अनुपातिक तौर पर देखा जाए तो एक जीडीएस का वेतन लगभग ₹12000 से ₹30000 तक हो सकती है जिसकी शुरुआती सैलरी लगभग ₹10000 से ₹12000 होती है।

कुछ समय बाद जीडीएस का वेतन बढ़ता है और यह बढ़कर ₹30000 तक हो जाता है आपको बता दें कि एक जीपीएस को वेतन के अलावा भी कई सारी सुविधाएं दिए जाते हैं जैसे पेट्रोल के खर्च महंगाई भत्ते इत्यादि।

यह भी पढ़ें :-बीबीए में कौन कौन सब्जेक्ट होते हैं

पोस्टमैन की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है?

पोस्टमैन की 1 महीने की सैलरी की बात की जाए तो पोस्टमैन को शुरुआती दौर में ₹10000 महीने दिए जाते हैं वहीं धीरे-धीरे इनकी सैलरी भी बढ़ती है और यह सैलरी ₹50000 से भी अधिक हो सकती है।

डाक विभाग में नवनियुक्त पोस्टमैन को सातवें वेतन आयोग के अनुसार ₹21700 से ₹69100 तक प्रति माह वेतन दिया जाता है।

आपको बता दें कि पोस्टमैन का वेतन प्रत्येक राज्य में अलग-अलग होता है अर्थात आप जिस राज्य में है उस राज्य का वेतन और दूसरे अन्य राज्य का वेतन अलग अलग हो सकते हैं।

लेकिन आनुपातिक तौर पर यदि बात किया जाए तो एक पोस्टमैन का मासिक वेतन लगभग ₹20000 से ₹60000 के बीच हो सकती है।

इसके अलावा भी कुछ अन्य सुविधाएं भी पोस्टमैन को दिए जाते हैं जैसे कि पेट्रोल खर्च महंगाई भत्ते इत्यादि जो सैलरी में नहीं जोड़ा जाता है।

यह भी पढ़ें :- b.Ed कितने साल का होता है

जीडीएस में कितने घंटे काम करना पड़ता है?

जीडीएस के काम के बारे में बात किया जाए तो एक जीडीएस को लगभग 5 से 8 घंटे काम करना पड़ता है।

आपको बता दें कि जीडीएस के पदों पर नियुक्ति अन्य सरकारी नियमित कर्मचारियों से अलग नियमों के अंतर्गत होती है अर्थात जीडीएस को काम करने के लिए अलग समय सारणी निर्धारित होता है।

एक जीडीएस को कम से कम दिन में 5 घंटे काम करने होते हैं और एक जीडीएस का यह काम होता है कि पोस्ट ऑफिस के माध्यम से लोगों को उनकी सुविधाएं पहुंचा सके।

जीडीएस में यदि पोस्टमैन की नौकरी आपको लगती है तो आप अपने अनुसार से भी काम कर सकते हैं आपको एक बार पोस्ट ऑफिस जाना होता है और वहां से आप जो भी लेटर चिट्ठी आया हुआ होता है या कुरियर आया हुआ होता है उसे आप निकाल कर अपने घर से भी कार्य कर सकते हैं।

एक जीडीएस का कार्य सिर्फ पोस्ट ऑफिस जाकर अटेंडेंस बनाना होता है और वहां से जो भी कुरियर आया हुआ होता है उसे रिसीव करना होता है उसके बाद वह अपने अनुसार से कार्य कर सकते हैं।

वह चाहे 2 घंटे में ही कार्य को खत्म कर सकते हैं या फिर 8 घंटे तक काम कर सकते हैं यह एक पोस्टमैन पर निर्भर करता है कि वह कितना देर काम करके अपना काम खत्म कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :-इंडियन आर्मी की सैलरी कितनी होती है

Postman की सैलरी कितनी होती है?

पोस्टमैन की शुरुआती सैलरी ₹10000 से होती है यह अलग अलग राज्य में अलग अलग होती है लेकिन आपको बता दें कि पोस्टमैन की सैलरी सातवें वेतन आयोग के अनुसार ₹21700 से लेकर ₹69100 तक प्रतिमाह सैलरी तय की गई है।

वही जल्दी मल्टी टास्किंग स्टाफ एमटीएस के बारे में बात करें तो इसकी एक महीने की सैलरी ₹18000 से लेकर ₹56900 तक होती है।

सभी राज्यों की पोस्टमैन की सैलरी अलग-अलग होती है यह राज्य के अनुसार निर्भर करता है कि किस राज्य में कितना निर्धारित किया गया है पोस्टमैन की सैलरी।

किसी किसी राज्य में पोस्टमैन की सैलरी ₹10000 से आरंभ होती है तो किसी किसी राज्य में पोस्टमैन की सैलरी ₹16000 से आरंभ होती है।

लेकिन आपको बता दें कि पोस्टमैन की सैलरी शुरुआती दौर में कम होती है और धीरे-धीरे उसकी सैलरी बढ़ती है।

पोस्टमैन को सैलरी के अलावा भी कई सारी सुविधाएं दिए जाते हैं जैसे पेट्रोल के खर्च किए जाते हैं और महंगाई भत्ता इत्यादि कई सारे अलावेंस भी दिए जाते हैं।

जरुर पढ़ें :-बीएसएफ की सैलेरी कितनी है?

जीडीएस का पेपर कैसे होता है?

जीडीएस में कुल 4 विषय होते हैं जिसमें 25-25 क्वेश्चन पूछे जाते हैं और कुल 100 मार्क्स होते हैं जिसके लिए 2 घंटे का समय दिया जाता है।

आपको बता दें कि बहुत सारे राज्यों में जीडीएस का परीक्षा नहीं होता है लेकिन कुछ कुछ राज्यों में जीडीएस का परीक्षा होता है और जिन राज्य में जीडीएस का परीक्षा नहीं होता है वहां पर मेरिट लिस्ट के आधार पर सिलेक्शन किया जाता है।

जिस राज्य में जीडीएस का परीक्षा होता है वहां पर जीडीएस के पेपर में कुल 4 विषय होते हैं जिसमें प्रत्येक विषय से 25 क्वेश्चन पूछे जाते हैं और प्रत्येक क्वेश्चंस पर एक मार्क होता है अर्थात कुल 100 क्वेश्चन सोते हैं और 100 मार्क्स होते हैं जिसके लिए 2 घंटे का समय दिया जाता है।

जिस राज्य में जीडीएस का परीक्षा नहीं होता है उस राज्य में दसवीं के मार्क्स के आधार पर सलेक्शन किया जाता है अर्थात दसवीं के मार्कशीट आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार किया जाता है।

जिसका सबसे ज्यादा अंक है उसका सिलेक्शन किया जाता है और जो उस मेरिट लिस्ट के आधार पर आते हैं उन सभी का सिलेक्शन होता है और जो मेरिट लिस्ट में नहीं आ पाते हैं वह जीडीएस में जॉब नहीं कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :-पुलिस की सैलरी कितनी होती है?

जीडीएस का मतलब क्या होता है?

जीडीएस का फुल फॉर्म ग्रामीण डाक सेवा होता है एक चिड़िया के बारे में बात किया जाए तो जीपीएस को डाकिया भी साधारण भाषा में आप कह सकते हैं जिसे पोस्टमैन भी कहा जाता है।

जीडीएस का कार्य है अक्सर गांव और कस्बे में पत्र बांटने का होता है वह पोस्ट ऑफिस से पत्र को इकट्ठा करके लाते हैं और उनके सही पते पर पहुंचाने का कार्य करते हैं।

जीपीएस में बहुत सारे पद होते हैं लेकिन जीडीएस का मेन पद जो होता है वह ग्रामीण डाक सेवा का होता है जिसे डाकिया कहते हैं और डाकिया का काम पत्र पहुंचाना होता है।

जीडीएस को आम बोलचाल की भाषा में पोस्टमैन या डाकिया कहा जाता है और एक जीडीएस डाकिए के रूप में पोस्ट ऑफिस द्वारा किसी भी पत्र या कुरियर को सही पते पर पहुंचाने का कार्य करते हैं।

यह भी पढ़ें :-बीकॉम करने के फायदे

ग्रामीण पोस्टमैन की सैलरी कितनी है?

ग्रामीण पोस्टमैन की सैलरी की बात की जाए तो यह सैलरी ₹12000 से ₹29300 तक होती है पोस्टमैन की सैलरी अलग अलग राज्य में अलग-अलग होती है किसी किसी राज्य में पोस्टमैन की शुरुआती सैलरी ₹10000 से शुरू होती है।

ग्रामीण पोस्टमैन की सैलरी किसी राज्य में ₹10000 से शुरू होती है तो किसी किसी राज्य में 12000 से शुरू होती है लेकिन आपको बता दें कि पोस्टमैन की सैलरी समय-समय पर बढ़ते रहती है।

पोस्टमैन को सैलरी के अलावा भी कई सारी सुविधाएं दिए जाते हैं जैसे उसे समय-समय पर निरंतरता भक्ता और महंगाई भत्ता का भी लाभ मिलता है जिसे डीए कहा जाता है।

बहुत सारे लोगों का यह सवाल है कि जीडीएस की सैलरी कितनी होती है? (How much is the salary in GDS) (GDS ki Salary Kitni hoti hai) तो आप इस लेख को पूरा अंत तक पढ़ें ताकि आपको सब कुछ समझ में या जाए।

यह भी पढ़ें :-12वीं के बाद कलेक्टर कैसे बने

जीडीएस के लिए कितने अंक चाहिए?

जीडीएस के लिए अंक की बात की जाए तो जीपीएस को दसवीं कक्षा के अंक के आधार पर सिलेक्शन किया जाता है और उसमें कम से कम 70% से ऊपर अंक होना अनिवार्य माना जाता है।

लेकिन आजकल कंपटीशन बढ़ जाने के कारण यह परसेंटेज भी बढ़ गया है आपको बता दें कि 90% अंक होने पर ही जीडीएस में होने का संभावना होता है।

कुछ दिन पहले कंपटीशन कम होने के कारण 70% अंक से काम चल जाता था लेकिन अब कंपटीशन बढ़ने के कारण यह परसेंटेज का दर भी बढ़ गया है और यह नब्बे परसेंट से ऊपर अंक होने पर ही आपको जीपीएस में सिलेक्शन हो सकता है।

आपको बता दें कि जीडीएस का सिलेक्शन मेरिट लिस्ट के आधार पर किया जाता है और मेरिट लिस्ट को अंक के आधार पर तैयार किया जाता है अर्थात जिस का सबसे ज्यादा अंक रहता है उसका सिलेक्शन होता है और जिसका का काम अंक रहता है उस हिसाब से मेरिट लिस्ट तैयार किया जाता है।

और यदि आप मेरिट लिस्ट के अंतर्गत आते हैं तो आपका सिलेक्शन होता है और यदि आप का अंक कम है और आप मेरिट लिस्ट के अंतर्गत नहीं आ सके तो आप इस पद से वंचित रह जाते हैं।

यह भी पढ़ें :-M.a. कितने साल का होता है

CONCLUSION :- जीडीएस की सैलरी कितनी होती है? | GDS ki Salary Kitni hoti hai

आपके इस लेख के माध्यम से हमने जाना कि जीडीएस की सैलरी कितनी होती है? (GDS ki Salary Kitni hoti hai) (How much is the salary in GDS) और इसके साथ ही GDS से संबंधित और भी कई सारे लोगों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब आज हमने जाना। 

आज का यह लेख “जीडीएस की सैलरी कितनी होती है? (GDS ki Salary Kitni hoti hai) (How much is the salary in GDS)” आपको कैसा लगा आप अपना राय जरूर दें और यदि आपके मन में GDS से संबंधित किसी भी प्रकार का सवाल है तो आप अपना सवाल पूछ सकते हैं, जल्द से जल्द आपके सवालों का जवाब देने का मैं कोशिश करूंगा। 

यह भी पढ़ें :-इंडियन आर्मी की सैलरी कितनी होती है
जरुर पढ़ें :-बीएसएफ की सैलेरी कितनी है?
यह भी पढ़ें :-पुलिस की सैलरी कितनी होती है?
यह भी पढ़ें :-12वीं के बाद कलेक्टर कैसे बने

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *