join Telegram channel Join Now
join WhatsApp channel Join Now

m a kitne saal ka hota hai | M.a. कितने साल का होता है

m a kitne saal ka hota hai (M.a. कितने साल का होता है) इस लेख के माध्यम से हम जानने वाले हैं और साथ ही m.a. से संबंधित कई सारे लोगों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब हम जानेंगे। 

MA एक प्रकार का पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स होता है m.a. का फुल फॉर्म मास्टर ऑफ आर्ट्स होता है M.a. को बीए के बाद कर सकते हैं। 

बहुत सारे छात्र 12वीं में पढ़ाई करते हैं या स्नातक में एडमिशन लिए हुए हैं सभी छात्र बीए के बाद m.a. करने के बारे में सोचता है वैसे छात्रों का हमेशा यह सवाल रहता है कि m.a. कितने साल का होता है (m a kitne saal ka hota hai)

m a kitne saal ka hota hai | M.a. कितने साल का होता है
m a kitne saal ka hota hai | M.a. कितने साल का होता है

आप यह जानते ही हैं कि m.a. पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स होता है अर्थात यदि आप m.a. कर लेते हैं तो आप पोस्टग्रेजुएट कहलाने लगते हैं और पोस्टग्रेजुएट करने के बाद अब किसी भी प्रोफेसर लेबल का कोर्स आसानी से कर सकते हैं। 

M.a. करने के बाद आप किसी भी प्राइवेट स्कूल में  आसानी से जॉब कर सकते हैं आपको किसी भी प्राइवेट स्कूल में इंटर लेवल तक का बच्चों को पढ़ाने के लिए जॉब मिल जाती है जिसकी सैलरी भी अच्छी खासी होती है। 

यदि आप अभी यह जानना चाहते हैं कि m.a. कितने साल का होता है (m a kitne saal ka hota hai) तो आप इस लेख को पूरा अंत तक पढ़े ताकि आपको सभी प्रकार की जानकारी अच्छे से समझ में आ जाए और किसी भी प्रकार की दिक्कत ना हो। 

m a kitne saal ka hota hai | M.a. कितने साल का होता है

एक प्रकार का पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स होता है,  m.a. का फुल फॉर्म Master of  Arts पता है, जिसकी अवधि 2 वर्ष होती है। 

आपको बता दें कि बहुत सारे कॉलेजों में एम ए कोर्स अवधि अलग-अलग होती है अर्थात अधिकतर कॉलेजों में m.a. की अवधि 2 वर्ष होती है लेकिन बहुत सारे ऐसे कॉलेज हैं जहां पर m.a. पूरी करने में लगभग 3 वर्ष का समय लग जाता है। 

यह कॉलेज पर निर्भर करता है कि कॉलेज में एम ए कोर्स की अवधि कितनी है अलग-अलग कॉलेजों में इसकी अवधि अलग-अलग होती है आप अपने नजदीकी कॉलेज में जाकर पता कर सकते हैं कि आपके कॉलेज में m.a. की अवधि कितनी है। 

बहुत सारे कॉलेजों में सेमेस्टर सिस्टम होता है अर्थात में 4 सेमेस्टर होते हैं और एक सेमेस्टर 6 महीना का होता है वहीं पर किसी किसी कॉलेज में एक सेमेस्टर पूरा करने में 6 महीने से 8 महीने का समय लग जाता है जिस कारण से पूरा होने में लगभग 3 वर्ष का समय लग जाता है। 

एम ए कोर्स को करने के लिए आपको सबसे पहले b.a. पास करना होता है b.a. पास करने के बाद आप m.a. में एडमिशन ले सकते हैं और m.a. का कोर्स आसानी से कर सकते हैं। 

M.a. आर्ट्स  का मास्टर कोर्स होता है इसमें बहुत सारे चीजों के बारे में बताया जाता है और उसका एक्सपेरिमेंट कराया जाता है जोकि आर्ट्स  से संबंधित होते हैं। 

एम ए कोर्स को आप 12वीं पास करने के बाद कर सकते हैं बहुत सारे कॉलेजों में डायरेक्ट m.a. में एडमिशन होता है लेकिन बहुत सारे कॉलेजों में एंट्रेंस एग्जाम लेने के बाद m.a. में एडमिशन होता है। 

आप अपने नजदीकी कॉलेज में पता कर ले कि आपके कॉलेज में मेरिट लिस्ट पर आधारित मार्क्स पर एडमिशन होता है या फिर एंट्रेंस एग्जाम लेने के बाद एडमिशन होता है यदि आपके कॉलेजों में एंट्रेंस एग्जाम लेने के बाद एडमिशन होता है तो आप थोड़ी बहुत तैयारी करके जाएं। 

आपको बता दें कि एंट्रेंस एग्जाम में ट्वेल्थ से ही क्वेश्चन पूछे जाते हैं और बहुत ही सिंपल क्वेश्चन रहता है जिसे आप आसानी से पास कर सकते हैं बस थोड़ी बहुत एक बार रिवीजन करके आपको जाना है जो कि आपके 12वीं के सिलेबस से ही आधारित होती है। 

यह भी पढ़ें :-कंप्यूटर के बारे में जनरल नॉलेज

Ma करने के लिए कितने परसेंट चाहिए?

 m.a. करने के लिए परसेंटेज की बात की जाए तो अलग-अलग कॉलेजों में अलग-अलग परसेंटेज होती है लेकिन फिर भी एक अनुपातिक तौर पर बात करें तो लगभग 45% बीए में होना चाहिए। 

 b.a. में आपका यदि 45% है तो आपको आसानी से किसी भी कॉलेज में एडमिशन m.a. में मिल जाएगी लेकिन यदि उससे कम है तो आपको इंतजार करना पड़ेगा क्योंकि बहुत सारे कॉलेजों में मेरिट लिस्ट पर एडमिशन होता है सबसे पहले ज्यादा अंक वाले छात्रों का एडमिशन होगा । 

आप अपना 12वीं की पढ़ाई ध्यान पूर्वक करें क्योंकि यदि आपका मार्क्स एक 45% से ज्यादा है तो आप आसानी से किसी भी कॉलेज में एडमिशन पा सकते हैं। 

बहुत सारे कॉलेजों में  45% से ऊपर अर्थात लगभग 50% होना चाहिए उसके बाद ही आपका एडमिशन होता है यदि आपका परसेंट 50 से कम है तो आपका एडमिशन वहां पर नहीं लिया जाता। 

यह भी पढ़ें :-DCA me kitne subject hote hai

Ma करके क्या बन सकते हैं?

करने के बाद बहुत सारे ऐसे फील है जहां पर आप काम कर सकते हैं और बहुत सारे ऐसे जॉब है जो आप कर सकते हैं तथा एम ए करने के बाद कुछ बन भी सकते हैं जो कि हमें लिखित है। 

  • टीचर
  • लेक्चरर / असिस्टेंट प्रोफेसर
  • रिसर्चर
  • स्टोरी राइटर
  • जर्नलिस्ट
  • लिरिसिस्ट
  • एडिटर
  • लैंग्वेज स्पेशलिस्ट
  • न्यूज़रीडर
  • ऑथर
  • स्पीच राइटर
  • कंटेंट राइटर
  • गवर्नमेंट अफसर
  • इंटरप्रेटर
  • वॉइस असिस्टेंट

ma करने के बाद बहुत सारे ऐसे फील्ड है जहां पर आप आसानी से जॉब कर सकते हैं और अच्छी खासी सैलरी भी वहां से आप प्राप्त कर सकते हैं। 

तो चलिए जानते हैं कि m.a. करने के बाद आप किस किस फील्ड में जॉब कर सकते हैं  जोकि निम्नलिखित है।

  • एजुकेशनल इंस्टिट्यूट
  • टीचर एंड लेक्चरर
  • सोशल वर्कर
  • लॉबिस्ट / ऑर्गनाइज़र
  • इंडस्ट्रियल हाउसेस
  • न्यूज़ एंड मीडिया
  • टूरिज़्म इंडस्ट्री
  • बिज़नेस हाउसेस
  • लेबर मैनेजमेंट रिलेशन्स स्पेशलिस्ट
  • बिज़नेस कंसलटेंट
  • ह्यूमन रिसोर्स मैनेजर

एम ए करने के बाद ऊपर दिए गए  सभी फील्ड में आप जॉब कर सकते हैं और अच्छी खासी सैलरी पा सकते हैं इसके अलावा भी कई सारे ऐसे फील्ड है जहां पर आप एम ए करने के बाद जॉब कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें :-12वीं के बाद डीएसपी कैसे बने

Ma करने में कितना खर्च आता है?

M.a. करने में खर्च की बात की जाए तो लगभग ₹15000 से लेकर ₹50000 तक हो सकती है या खर्च अलग-अलग कॉलेजों में अलग-अलग होती है। 

कुछ कॉलेजों में m.a. करने में लगभग 20000 का खर्च होता है वहीं कुछ कॉलेजों में लगभग 35000 तक का खर्च हो जाता है। 

सरकारी कॉलेजों की बात की जाए तो प्राइवेट कॉलेजों की तुलना में बहुत कम फीस होती है जहां प्राइवेट कॉलेजों में 50000 से ₹100000 तक फीस होती है वहीं सरकारी कॉलेजों में ₹5000 से ₹15000 तक फिक्स होती है। 

आप मिडिल क्लास फैमिली से बिलॉन्ग करते हैं तो मेरे रिकमेंडेशन में सरकारी कॉलेज से ही अपना पूरी करें क्योंकि सरकारी कॉलेज में बहुत कम होती है और उसे आप आसानी से कर पाएंगे। 

 प्रत्येक सरकारी कॉलेज की फीस अलग-अलग होती है कॉलेज यूनिवर्सिटी से अपना करना चाहते हैं आप कॉलेज यूनिवर्सिटी का ऑफिशल वेबसाइट चेक कर सकते हैं वहां से आपको सटीक जानकारी मिल जाएगी। 

जरुर पढ़ें :-बीए के बाद एलएलबी कैसे करें

Ma में कुल कितने विषय होते हैं?

M.a. में कुल विषय की बात की जाए तो लगभग 10  विषय होते हैं जो आपको पूरे अवधि के दौरान पढ़ने पड़ते हैं  जोकि निम्नलिखित है। 

  • हिंदी
  • इंग्लिश
  • हिस्ट्री
  • पॉलिटिकल साइंस
  • जियोग्राफी
  • इंटीरियर डिज़ाईन
  • सोशल वर्क
  • पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन
  • कल्चर एंड मीडिया
  • जेंडर स्टडीज़

इसके अलावा भी कुछ विषय में पढ़ाए जाते हैं जो कि प्रत्येक कॉलेज अपने अनुसार से विषय निर्धारित करते हैं आप अपने नजदीकी कॉलेज में पता कर सकते हैं कि वहां पर कौन कौन विषय की पढ़ाई होती है। 

यह भी पढ़ें :-बीए में कौन कौन से सब्जेक्ट होते हैं 

एमबीए की 1 साल की फीस कितनी है?

B.a. की 1 साल की फीस की बात की जाए तो  लगभग ₹50000 से ₹500000 तक  न्यूनतम फिस हो सकती है जैसे बड़े शहरों में एमबीए की फीस लगभग ₹2000000 से ₹2500000 तक पूरे कोर्स के लिए होती है।

बहुत सारे जगहों में इसकी फीस कम होती है तो कई सारे जगहों में बहुत अधिक होती है भारत के अन्य सरकारी कॉलेजों में इसकी फीस लगभग ₹40000 से ₹400000 तक होती है। 

सरकारी कॉलेजों में एमबीए की फीस प्राइवेट कॉलेजों की तुलना में काफी कम होती है जहां प्राइवेट कॉलेजों में 200000 रुपये से ₹2000000 तक सालाना लेती है वही सरकारी कॉलेजों में ₹50000 तक में हो जाती है। 

यदि आप एक मिडिल क्लास फैमिली से हैं और एमबीए करना चाहते हैं तो आप सरकारी कॉलेजों से ही एमबीए करें क्योंकि सरकारी कॉलेजों में फीस बहुत कम होती है और आप उस फीस को एफर्ट भी कर पाएंगे। 

वहीं प्राइवेट कॉलेजों में एमबीए की फीस बहुत अधिक होती है जिसे पूरा कर पाना एक मिडिल क्लास फैमिली के लिए बहुत मुश्किल होती है इसलिए मेरे रिकमेंडेशन से आप  सरकारी कॉलेजों से ही  एमबीए को पूरा करें। 

यह भी पढ़ें :-पीएचडी कितने साल की होती है

MBA की सैलरी कितनी है?

एमबीए की सैलरी की बात की जाए तो एक्सपीरियंस के अनुसार से एमबीए की सैलरी अलग-अलग होती है लेकिन एक अनुपातिक तौर पर शुरुआती सैलरी लगभग ₹1000000 से ₹8000000 तक सलाना होती है। 

जैसे एक्सपीरियंस बढ़ते जाता है सैलरी भी बढ़ती जाती है और एक एमबीए की सैलरी लगभग ₹5000000 सलाना तक होती है। 

एमबीए की फीस अलग-अलग कंपनी में अलग-अलग दी जाती है आपको बता दें कि कंपनी की शुरुआती सैलरी लगभग ₹1000000 सालाना से होती है लेकिन जब आप का एक्सपीरियंस बढ़ जाता है और कुछ दिन तक आप कंपनी में काम कर लेते हैं तो आपकी सैलरी ₹8000000 से ₹10000000 तक सालाना हो जाती है। 

यह भी पढ़ें :-बीबीए में कौन कौन सब्जेक्ट होते हैं

CONCLUSION :- 

आज के इस लेख के माध्यम से हमने जाना कि m a kitne saal ka hota hai (M.a. कितने साल का होता है) और साथ ही लोगों द्वारा पूछे गए कुछ सवालों के जवाब भी जाना।

हमको उम्मीद है कि आज का यह लेख “m a kitne saal ka hota hai (M.a. कितने साल का होता है)” आपको काफी अच्छा लगा होगा।

MA से संबंधित सभी प्रकार के सवालों का जवाब आज हम इस लेख के माध्यम से समझ गए हैं तथा लोगों द्वारा पूछे गए सभी सवालों का जवाब भी आज हम जाने।

इसके अलावा भी आपके मन में किसी प्रकार का सवाल है तो आप कमेंट कर सकते हैं आपके सवालों का जवाब जल्द से जल्द दिया जायेगा।

यह भी पढ़ें :-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *