प्राइवेट डॉक्टर कैसे बने | Private Doctor Kaise Bane

प्राइवेट डॉक्टर कैसे बने | Private Doctor Kaise Bane आज के इस लेख में हम इसी के ऊपर बात करने वाले हैं और साथ ही यह भी जानने वाले हैं, कि डॉक्टर बनने के लिए कौन कौन से प्रोसेस से गुजरना पड़ता है।

सरकारी डॉक्टर और प्राइवेट डॉक्टर में सिर्फ एक ही फर्क होता है सरकारी डॉक्टर बनने से पहले डिग्री के साथ-साथ एग्जाम भी लिया जाता है, लेकिन प्राइवेट डॉक्टर में डिग्री ही प्राथमिकता होती है, एग्जाम को प्राथमिकता नहीं दी जाती है।

प्राइवेट डॉक्टर वैसे डॉक्टर को कहा जाता है जो या तो अपना क्लीनिक खोल के खुद डॉक्टरी करते हैं या किसी और डॉक्टर के पास जॉब करते हैं।

प्राइवेट डॉक्टर बनने के लिए डिग्री के साथ-साथ एक्सपीरियंस भी जरूरी होता है, क्योंकि डिग्री से अनुभव का पता नहीं चलता है। इसलिए अनुभव का होना बहुत जरूरी है एक प्राइवेट डॉक्टर के लिए।

प्राइवेट डॉक्टर कैसे बने | Private Doctor Kaise Bane | MBBS Kaise Kare | Private Doctor Ki Salary Kitni Hai | Gramin Doctor Kaise Bane
प्राइवेट डॉक्टर कैसे बने | Private Doctor Kaise Bane

अक्सर लोगों के मन में यह सवाल होता है कि प्राइवेट डॉक्टर कैसे बने? | Private Doctor Kaise Bane तथा प्राइवेट डॉक्टर बनने के लिए कौन-कौन से कोर्स करना पड़ता है? या प्राइवेट डॉक्टर बनने के लिए कितना समय लगता है?

तो दोस्तों चाहिए आज के इस लेख के माध्यम से हम ऊपर दिए गए सभी सवालों का जवाब जानने का प्रयास करेंगे तो इस लेख को पूरा अंत तक पढ़े, ताकि आपको अच्छे से समझ में आ जाए।

प्राइवेट डॉक्टर कैसे बनते हैं? | Private Doctor Kaise Bane

यदि आप एक प्राइवेट डॉक्टर बनना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको 10वीं परीक्षा पास करने के बाद 12वीं में साइंस से फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी का चुनाव करके पढ़ाई करनी होगी।

उसके बाद आपको मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम नीट की तैयारी करनी होगी। यह एक प्रकार का मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम होता है, जिसको पास करने के बाद ही आप मेडिकल कॉलेज में दाखिला ले सकते हैं।

उसके बाद आपको एमबीबीएस सी डिग्री करनी होगी एमबीबीएस का कोर्स 5 साल का होता है जिसमें से 4 साल का कोर्स तथा 1 साल का इंटरशिप भी शामिल होती है।

एमबीबीएस पूरा होने के बाद आप एक डॉक्टर बनने के लिए एलिजिबल हो जाते हैं उसके बाद चाहे तो आप प्राइवेट डॉक्टर बनकर अपना क्लीनिक खोल सकते हैं अथवा सरकारी डॉक्टर भी बन सकते हैं।

ऊपर दिए गए सभी प्रोसेस को पूरा करने के बाद आप एक प्राइवेट डॉक्टर बन जाते हैं, लेकिन एक प्राइवेट डॉक्टर के लिए एक्सपीरियंस बहुत जरूरी होती है, जिसमें कि आपको बहुत ज्यादा मेहनत करना पड़ सकता है।

ऊपर बताया गया है कि डॉक्टर बनने के लिए आपको MBBS करना बहुत जरुरी होता है, बिना MBBS किये आप एक डॉक्टर नही बन सकते, तो चलिए जानते हैं कि MBBS करने के लिए क्या करना पड़ता है।

MBBS कैसे करें? | MBBS Kaise Kare

MBBS में एडमिशन लेने के लिए हर एक जगह में योग्यताओं की मांग अलग-अलग होती है, जिसमें से एक बेसिक मापदंड की बात किया जाए तो वह योग्यताएं निम्नलिखित हैं।

  • सबसे पहले 12वीं में आपका साइंस स्ट्रीम होना अनिवार्य है, जिसमें बायोलॉजी फिजिक्स केमिस्ट्री तथा मैथ का होना जरूरी माना जाता है।
  • उसके बाद बैचलर की डिग्री में बायोलॉजी सब्जेक्ट से पढ़ाई करना अनिवार्य होता है, जिसके बाद आपको नींद के लिए तैयारी करने का जरूरत होता है।
  • एमबीबीएस के लिए अप्लाई करने से पहले आपको नीट का एग्जाम क्लियर करना जरूरी होता है इसके बाद ही आपको एमबीबीएस के लिए अप्लाई कर सकेंगे।
  • जगह अनुसार अन्य मेडिकल एग्ज़ाम देने की आवश्यकता हो सकती है जिसमें भारत के लिए NEET, United Kingdom के लिए BMAT  या UCAT, United States के लिए MCAT आदि शामिल हैं।

नोट : ऊपर सभी दी गई योग्यताएं एक बेसिक मापदंड के आधार पर बताया गया है, जो हर राज्य के अनुसार बदलते रहते हैं। आपकी बेहतर जानकारी के लिए चुनी गई यूनिवर्सिटी की ऑफिशल वेबसाइट पर जरूर विजिट कर लें। 

तो दोस्तों चलिए अब हम जानते है कि आवेदन कैसे किया जाता है और इसमें क्या क्या परेशानी आ सकती है, तो नीचे आवेदन देने के पूरी प्रक्रिया को बताया गया है जो कि निम्नलिखित है :-

आवेदन प्रक्रिया 

मेडिकल युनिवर्सिटी में एडमिशन के लिए निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो करना आवश्यक है। यह आवेदन प्रक्रिया आपको आपके मन चाहे कॉलेज में एडमिशन दिलाने के लिए महत्वपूर्ण है-

  • सबसे पहले मेडिकल फिल्ड में डॉक्टर बनने से जुड़े सभी कोर्सेज को जानें और अपने लिए एक बेहतर विकल्प चुनें। 
  • उसके बाद कौन से कॉलेजेस आपका चुना कोर्स उपलब्ध करातें है इसके बारे में पता लगाएं। 
  • ध्यान से कोर्स और कॉलेज के लिए दी गई योग्यता को पढ़ें। 
  • मेडिकल फील्ड में आपके चुनें विकल्प के लिए देने वाले एंट्रेंस एग्ज़ाम्स का पता लगाएं और आपके कॉलेज द्वारा स्वीकार किया जाने योग्य एग्ज़ाम चुनें। 
  • मेडिकल के क्षेत्र में प्रोग्राम के लिए एनरोल कर रहे कैंडिडेट का एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना आवश्यक है। 
  • कुछ युनिवर्सिटीज़ मेरिट बेस यानी आपकी बारहवीं के एग्ज़ाम में आये मार्क्स को ध्यान में रखकर भी एडमिशन स्वीकार करते हैं, जिसे कट ऑफ के अनुसार एडमिशन कहा जाता है।
  • कई युनिवर्सिटीस आपके एंट्रेंस एग्ज़ाम रिज़ल्ट अनुसार डायरेक्ट एडमिशन भी देतीं हैं, जबकि कुछ उसके बाद भी एडिशनल चीज़ों के मुताबिक़ सेलेक्शन किया करतीं हैं, जिसमें ज़्यादातर ग्रुप डिस्कशन और पर्सनल इंटरव्यू शामिल होतें हैं। 
  • रिजल्ट आने के बाद,काउंसिलिंग के लिए रजिस्टर करें और प्रोसेस फॉलो करें। 
  • अपने चुनें गए कॉलेज और कोर्स को काउंसिलिंग में सेलेक्ट करें। 
  • रजिस्टर करें और दस्तावेज़ जमा कराएं।

तो दोस्तों चलिए अब हम जानते हैं कि आवश्यक दस्तावेज क्या क्या लगता है जिसको नीचे बारीकी से बताया गया है, जो कि निम्नलिखित है :-

आवश्यक दस्तावेज़ 

एमबीबीएस करने के लिए कुछ आवश्यक दस्तावेजों की जरूरत होती है, वे दस्तावेज निम्नलिखित है।

  • 10वीं और 12वीं उत्तीर्ण की मार्कशीट। 
  • ग्रेजुएशन उत्तीर्ण की मार्कशीट। 
  • भरा गया ऍप्लिकेशन फॉर्म।
  • कॉलेज छोड़ने का सर्टिफिकेट। 
  • हेल्थ सेक्टर में डिप्लोमा या वर्क एक्सपीरियंस की कॉपी।
  • भारतीय नागरिकता का प्रमाण जिसमें जन्म पत्री या पासपोर्ट हो सकता है। 
  • किसी मान्यता प्राप्त डॉक्टर द्वारा दिया गया ‘फिज़िकल फिटनेस सर्टिफिकेट’
  • विदेश में पड़ने के लिए जाने वाले छात्र का पासपोर्ट और वीज़ा।
  • कैंडिडेट की 5 पासपोर्ट साइज़ फोटो। 
  • लैंग्वेज टेस्ट स्कोर शीट IELTS, TOEFL आदि। 
  • Statement of Purpose (SOP) 
  •  Letters of Recommendation (LORs)

टॉप मेडिकल कोर्सेस

12वीं के बाद कुछ टॉप मेडिकल कोर्सेज जो की प्रसिद्ध मेडिकल कोर्सेज की सूची में आते हैं, जिसको आप करके मेडिकल के क्षेत्र में अग्रणी बन सकते हैं, जोकि निम्नलिखित है।

  • MBBS
  • BDS (बैचलर ऑफ़ डेंटल सर्जरी)
  • BHMS (बैचलर ऑफ़ होम्योपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी)
  • नर्सिंग
  • डाइटीशियन
  • फिज़ियोथेरेपी
  • वेटेरिनरी कोर्सिज़
  • क्लिनिकल साइकोलॉजी
  • हैल्थ इंस्पेक्शन
  • फार्मास्युटिकल मैनेजमेंट
  • हॉस्पिटल मैनेजमेंट
  • रिसर्च अपोर्चुनिटीज़

प्राइवेट डॉक्टर की सैलरी कितनी होती है? | Private Doctor Ki Salary Kitni Hai

प्राइवेट डॉक्टर की सैलरी की बात किया जाए तो एक प्राइवेट डॉक्टर की सैलरी का अंदाजा लगा पाना बहुत मुश्किल होता है। 

एक प्राइवेट डॉक्टर यदि किसी के अंदर काम करते हैं तो उनकी सैलरी बहुत कम होती है वहीं यदि वह अपना क्लीनिक खोलकर काम करते हैं तो उनके अनुसार सैलरी होती है वह या तो बहुत अधिक हो सकती है या कम भी हो सकती है।

डिग्री के अनुसार प्राइवेट डॉक्टर की सैलरी का एक बेसिक मापदंड निकाला गया है जिसमें MBBS/MD डॉक्टर का वेतन 15600-39100 तक हो सकता है।

डॉक्टर की सैलरी उनके एक्सपीरियंस के हिसाब से भी बढ़ते रहते हैं एक प्राइवेट डॉक्टर को 60000 से ₹80000 तक भी सैलरी मिल सकती है।

जरुर पढ़ें :-12वीं के बाद डॉक्टर कैसे बने?

डॉक्टर बनने के लिए 10वीं के बाद क्या करें?

एक डॉक्टर बनने के लिए आपको दसवीं के बाद 12वीं में फिजिक्स केमिस्ट्री और बायोलॉजी सब्जेक्ट से पढ़ाई करनी होगी। 

उसके बाद स्नातक की पढ़ाई करने के बाद नीट का एग्जाम पास करना होता है, जिसके बाद आप एमबीबीएस में दाखिला ले सकते हैं।

MBBS पढ़ाई पूरी करने के बाद आप एक डॉक्टर बन जाते हैं, इसमें आप कोर्स को भी चुन सकते हैं कि आपको किस प्रकार के डॉक्टर बनना हैं आप चाहें तो फिजिशियन डॉक्टर बन सकते हैं या फिर सर्जन या कुछ और अपने चुने गए कोर्स के अनुसार आग बन सकते हैं।

जरुर पढ़ें :जीएनएम के बाद डॉक्टर कैसे बने?

डॉक्टर की सबसे बड़ी डिग्री कौन सी है?

मेडिकल साइंस के क्षेत्र की बात किया जाए तो मेडिकल साइंस में डॉक्टर की सबसे बड़ी डिग्री एमबीबीएस की डिग्री मानी जाती है।

एमबीबीएस कोर्सेज का लक्ष्य छात्रों को मेडिसिन की फील्ड में ट्रेंड करना है। एमबीबीएस पूरी होने पर, कोई व्यक्ति पेशेंट्स के रोगों को डायग्नोस करने के बाद उन्हें मेडिसिन्स प्रिस्क्राइब करने के योग्य बन जाता है!

जरुर पढ़ें :सर्जन डॉक्टर कैसे बने

मेडिकल के लिए कौन सा कोर्स करना पड़ता है?

मेडिकल साइंस के क्षेत्र में मेडिकल कोर्सेज के लिए medical courses में BSc नर्सिंग, BSc बायोटेक्नोलॉजी, बैचलर ऑफ फिजियोथैरेपी, बैचलर ऑफ फार्मेसी, BSc साइकोलॉजी, BSc बायोमेडिकल साइंस 

ऊपर दिए गए कोर्सेस के अलावा भी बहुत से कोर्स शेष रह जाते हैं जिसको आप मेडिकल साइंस के क्षेत्र में मेडिकल के लिए कर सकते हैं।

जरुर पढ़ें :स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कैसे बनें

ग्रामीण डॉक्टर बनने के लिए क्या करें? | Gramin Doctor Kaise Bane

CMS Ed करके ग्रामीण डॉक्टर बन सकते हैं। यह पैरामेडिकल कोर्स के अंतर्गत आता है, और इस कोर्स को करने के बाद भी आप ग्रामीण इलाकों में प्राइमरी हेल्थ चिकित्स्यालय खोल सकते हैं।

CMS ED करने के बाद एक ग्रामीण डॉक्टर के तौर पर काम कर सकते हैं। यह कोर्स 2 साल का होता है, जिसे आप किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज इंस्टिट्यूट से कर सकते हैं।

जरुर पढ़ें :BIO में कौन कौन सी जॉब होती है

एमबीबीएस करने के बाद क्या करें?

बहुत सारे लोगों का यह सवाल होता है कि एमबीबीएस करने के बाद क्या करें तो नीचे निम्नलिखित दिया गया है, कि MBBS करने के बाद क्या करें, जो कि इस प्रकार से है।

  1. हेल्थकेयर में MBA.
  2. अस्पताल प्रशासन और स्वास्थ्य प्रबंधन में MBA.
  3. स्वास्थ्य प्रबंधन में MBA.
  4. अस्पताल और स्वास्थ्य प्रबंधन में MBA.
  5. हॉस्पिटल मैनेजमेंट में PGD.
  6. हेल्थ मैनेजमेंट में PGD.
  7. हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में PGD.

जरुर पढ़ें :-इंडियन आर्मी में डॉक्टर कैसे बने?

कम पैसे में डॉक्टर कैसे बने?

अगर आपको मेडिकल कोर्स कम पैसो में करना है, तो आपको पहले ऑल इंडिया प्री मेडिकल एंट्रेस एग्जाम (एआईपीएमटी) क्वालिफाई करना होगा। 

उसके बाद जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज– (JLN), की फीस – ₹4900 प्रतिवर्ष है। आप चाहे तो इस में दाखिला ले सकते हैं और दाखिला मिल जाने पर आप बहुत ही आसानी से कम खर्च में अपना मेडिकल कोर्स पूरा कर सकते हैं।

इसके अलावा भी बहुत सारे कॉलेज हैं जिसकी फीस बहुत कम होती है आप वह सब कॉलेजों का भी पता कर सकते हैं जो आपके लिए बेस्ट हो।

जरुर पढ़ें :-नीट की फीस कितनी है

CONCLUSION:-

दोस्तों, हम उम्मीद करते है कि आज के इस लेख के माध्यम से आप लोग समझ गए होंगे कि “प्राइवेट डॉक्टर कैसे बने | Private Doctor Kaise Bane” जिसकी पुरी जानकारी इस लेख के माध्यम से देने का कोशिश किया हूं।

यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो “प्राइवेट डॉक्टर कैसे बने | Private Doctor Kaise Bane” तो आप  WhatsApp, Facebook के जरिये Share भी कर सकते हे ताकि और भी Students को जानकारी मिल पाए।

आपके मन में कोई सवाल एवं सुझाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे पूछ सकते हैं, से जल्द आपके सवाल का जवाब देने का प्रयास करूंगा, धन्यवाद।

यह भी पढ़ें :-

2 thoughts on “प्राइवेट डॉक्टर कैसे बने | Private Doctor Kaise Bane”

  1. थैंक यू आपने बहुत अच्छी जानकारी दी। आपकी इस पोस्ट में आने के बाद किसी ओर पोस्ट में जाने की जरूरत ही मरहसुस नही होती। आप बहुत ही अच्छा लिखते है जिससे कि पढ़ने वाले को उसके मन मे आने से पहले ही सवाल सॉल्व हो जाय। मुजे लगता है कि आपके ब्लॉग पर लोग डायरेक्ट विजिट करते होंगे क्योंकि जो एक बार आता है उसको सभी जानकारी मिल जाती है। क्या आप इस ब्लॉग से भी अच्छा लिख सकत्व है उम्मीद करता हूँ कि आप आगे भी हमे ऐसे ही जानकारी देंगे।

  2. सबसे बेस्ट इन्फॉर्मेशन। Very Good article you provide all information in details

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *