Surgeon Doctor Kaise Bane

सर्जन डॉक्टर कैसे बनें | Surgeon Doctor Kaise Bane

सर्जन डॉक्टर कैसे बने | surgeon doctor kaise bane तो दोस्तों आज के इस लेख में हम इसी के ऊपर बात करने वाले हैं और बारीकी से जानेंगे और साथ में यह भी जानेंगे कि सर्जन डॉक्टर कितने प्रकार के होते हैं तथा इसके फायदे और नुकसान क्या क्या है।

एक सर्जन एक चिकित्सा पेशेवर होता है जिसके पास एक चिकित्सा डिग्री होती है जिसमें विशेष अंगों या प्रक्रियाओं की विशेषता शामिल होती है, अर्थात वह केवल उसी अंग पर महारत हासिल किया हुआ रहता है उस अंग पर उसका अच्छा कमांड रहता है।

सर्जन अपनी प्रक्रियाओं से पहले रोगियों के साथ परामर्श प्रदान करते हैं और उनके कर्मचारी, या संदर्भित पेशेवर रोगियों से नैदानिक डेटा ले सकते हैं। ऑपरेशन शुरू होने पर सर्वोत्तम तरीके से आगे बढ़ने का तरीका निर्धारित करने के लिए सर्जन डेटा और इमेजरी की समीक्षा और विश्लेषण करते हैं।

सर्जन एक स्पेशलाइज्ड फिजिशियन होता है जो Orthopedic, Cardiothoracic और Neurological जैसे फील्ड में स्पेशलाइजेशन करता है, यानी ऐसा डॉक्टर जो सर्जरी में स्पेशलाइज्ड हो वो Surgeon कहलाता है। 

सर्जन पेशेंट्स के ऑपरेशन के ज़रिए उनकी बिमारी और इंजरीज को ठीक करते हैं। अगर आप सर्जन बनना चाहते हैं तो आप एक General Surgeon भी बन सकते हैं और चाहें तो Plastic Surgery, Cardiovascular या Neurological जैसा कोई स्पेशलाइजेशन भी चुन सकते हैं।

सर्जन डॉक्टर कैसे बनें | Surgeon Doctor Kaise Bane
सर्जन डॉक्टर कैसे बनें | Surgeon Doctor Kaise Bane

टाइम के साथ-साथ मेडिकल फील्ड में भी टेक्निकल एडवांसमेंट बढ़ने से सर्जन के लिए ऑपरेशन करना पहले की तुलना में आसान हुआ है, लेकिन फिर भी सर्जन होना बहुत बड़ी रिस्पॉन्सबिलिटीज वाला प्रोफेशन है।

यदि आप भी मेडिकल फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं और एक सर्जन की रिस्पांसिबिलिटी को उठाना चाहते हैं तो आज का यह लेकिन आपके लिए ही है क्योंकि इस लेख के माध्यम से आपको सर्जन बनने की प्रोसेस के बारे में बारीकी से और साधारण भाषा में समझाने वाले हैं इसलिए इस लेख को पूरा पढ़ा था कि आपको संपूर्ण जानकारी मिल सके कि सर्जन डॉक्टर कैसे बनें | Surgeon Doctor Kaise Bane

सर्जन डॉक्टर कैसे बनें | sarjan doctor kaise bane

सर्जन बनने के लिए आपको MCI (Medical Council of India) से रिकॉग्नाइज्ड यूनिवर्सिटी से MBBS की डिग्री लेनी होगी। जिसके बाद आपको General Surgery में MS (Master of Surgery) की डिग्री लेनी होगी। तभी आप एक सर्जन के रूप में प्रैक्टिस शुरू कर सकेंगे। 

इसके बाद आप चाहें तो सर्जरी में स्पेशलाइजेशन भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको एक ऐसे इंस्टीट्यूट्स से M. Ch यानी की Master of Chirurgiae की डिग्री लेनी होगी, जो Medical Council of India से अप्रूवड हो।

M.Ch मास्टर ऑफ चिरर्जिकल एक सुपर स्पेशियलिटी कोर्स है। इसकी अवधि 3 वर्ष की होती है और M.Ch उम्मीदवार सर्जिकल प्रक्रियाओं में भी भाग लेते हैं और M.Ch करने वाले सभी उम्मीदवार प्रशिक्षण अवधि के दौरान पूर्णकालिक निवासियों के रूप में काम करते हैं।

MBBS करने के लिए, आपको भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान में कम से कम 60 प्रतिशत के साथ 10+2 उत्तीर्ण होना चाहिए। 

उसके बाद, आपको NEET के लिए उपस्थित होना होगा, जो कि सबसे महत्वपूर्ण प्रवेश परीक्षा है। जिपमर और एम्स जैसे अन्य विश्वविद्यालय अपनी प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं। NEET क्लियर करने के बाद आपको अपनी रैंकिंग के अनुसार कॉलेज मिलता है।

MBBS और कम से कम एक साल की इंटर्नशिप पूरी करने के बाद आप एमएस जनरल सर्जरी कर सकते हैं। MS की अवधि 3 वर्ष की होती है।

सर्जन बनने के लिए कुछ बेहद जरुरी स्किल्स का का होना भी बहुत जरुरी है। जैसे :–

  • सर्जन को टीम प्लेयर की तरह वर्क करना आना चाहिए।
  • सर्जन में स्ट्रांग एनालिटिकल और प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स होनी चाहिए।
  • सर्जन का एथिकल आउट लुक होना जरुरी है, साथ ही उसे डिसिप्लिंड भी होना चाहिए।
  • सर्जन में कम्पैशन (दया) होना जरुरी है।
  • सर्जन का इमोशनली स्ट्रांग होना भी जरुरी है ताकि वो पेशेंट के साथ अच्छी तरह से डील कर सकें और उसके वर्क पर इमोशंस भारी ना पड़े।
  • लम्बे समय तक पूरी एफिशिएंसी के साथ वर्क करने की एबिलिटी होनी भी सर्जन के लिए जरुरी है।
  • लेटेस्ट सर्जिकल टेक्निक्स की नॉलेज भी एक सर्जन के लिए बहुत हेल्पफुल और इम्पोर्टेन्ट होती है।

MS के लिए कुछ प्रवेश परीक्षाएं इस प्रकार से हैं:

  • UP PGMEE
  • AIPGMEE
  • DUPGMET

इसी प्रोसेस को स्कूल लेवल से समझें तो सबसे पहले आपको 12th क्लास फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी सब्जेक्ट्स से पास करनी होगी और इस क्लास में आपके मार्क्स कम से कम 60% तो होने ही चाहिए। 

इसके बाद आपको NEET एग्जाम क्लियर करना होगा, जो नेशनल एंट्रेंस एग्जाम है। कई यूनिवर्सिटीज अपना एंट्रेंस एग्जाम भी कंडक्ट कराती हैं, जैसे – AIIMS और JIPMER

NEET क्लियर करने के बाद आपको आपकी रैंकिंग के अनुसार मेडिकल कॉलेज मिलेगा। जहाँ से आप MBBS या BDS डिग्री लेंगे और इसके बाद MS यानी General Surgery Course कर सकेंगे, जो 3 साल का पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स होता है।

कुछ स्पेशलाइजेशन कोर्सेज इस प्रकार हैं

  • Master of Chirurgiae in Surgical Oncology
  • Master of Chirurgiae in Urology
  • Master of Chirurgiae in Thoracic Surgery
  • Master of Chirurgiae in Neurosurgery
  • Master of Chirurgiae in Oncology
  • Master of Chirurgiae in Cardio Thoracic Surgery
  • Master of Chirurgiae in Gastrointestinal Surgery
  • Master of Chirurgiae in Plastic Surgery

एडमिशन प्रोसेस

MS (Master of Surgery) कोर्स में एडमिशन के लिए कई कॉलेजेस कॉउंसलिंग कंडक्ट करते हैं और मेरिट लिस्ट बेस पर एडमिशन देते हैं, जबकि कुछ कॉलेजेस इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम कंडक्ट कराते हैं, जैसे – UPPGMEE, AIPGMEE, DUPGMET.

टॉप कॉलेजेस

नीचे हम आपको इंडिया के कुछ बेहतरीन कॉलेजेस के नाम बता रहे हैं, जहाँ से आप MS यानी Master of Surgery का कोर्स कर सकते हैं।

  • Bangalore Medical College and Research Institute, Bangalore
  • All India Institute of Medical Sciences, Bhopal
  • Father Muller Medical College, Mangalore
  • Aligarh Muslim University, Aligarh
  • Coimbatore Medical College, Coimbatore
  • Deccan College of Medical Sciences, Hyderabad
  • Government Kilpauk Medical College, Chennai
  • Guwahati Medical College and Hospital, Guwahati
  • Government Medical College, Nagpur
  • Government Medical College, Srinagar
  • The Maharaja Sayajirao University of Baroda, Vadodara
  • Gujarat University, Ahmedabad
  • Lady Hardinge Medical College, New Delhi
  • Post Graduate Institute of Medical Education & Research PGIMER, Chandigarh.
  • Mahatma Gandhi Memorial Medical College, Indore

जरुर पढ़ें :जीएनएम के बाद डॉक्टर कैसे बने?

सर्जन किसे कहते है

सर्जन एक शल्य चिकित्सक होते हैं जो ऑपरेशन थिएटर में सर्जरी करते हैं इनके अलग-अलग समय और स्थानों में अलग-अलग नियम होता है एक आधुनिक सर्जन लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक भी होता है या सर्जरी में विशेषज्ञता प्राप्त हुआ रहता है

यह भी पढ़ें :-BSF कैसे ज्वाइन करें

सर्जन की सैलरी कितनी होती है | Surgeon salary in India

जहाँ तक सैलरी की बात है तो गवर्नमेंट हॉस्पिटल में सर्जन को स्टार्टिंग सैलरी 50 हजार से 5 लाख रूपये पर मंथ मिल सकती हैं। सैलरी का ये डिफरेंस सर्जन के स्पेशलाइजेशन के अनुसार होगा और प्राइवेट हॉस्पिटल में सैलरी 70 हजार से लेकर 7 लाख रूपये पर मंथ हो सकती है। 

इसके अलावा सर्जन की स्किल्स, एक्सपीरियंस, रिलेटेड हॉस्पिटल भी इस सैलरी को इफेक्ट करेंगे और एक Surgeon का सैलरी पैकेज टाइम एक्सपर्टीज के साथ तेजी से इतना बढ़ता जा रहा है, जितना आप सोच भी नही सकते। इसीलिए सर्जन बने तो पूरे डेडिकेशन से अपनी ड्यूटी पूरी करने पर ध्यान दें। पैसा तो पीछे-पीछे आ ही जायेगा।

जरुर पढ़ें :-बीएसएफ की सैलेरी कितनी है?

सर्जन डॉक्टर का क्या काम होता है?

सर्जन एक डॉक्टर ही होता है। लेकिन यह वह डॉक्टर होता है जो ऑपरेशन थियेटर में रोगी का ऑपरेशन (सर्जरी, चीर-फाड़, शल्य चिकित्सा) करता है। एक सर्जन का पेशा बहुत ही रिस्क भरा होता है, क्योंकि मरीज के शरीर की चिर-फाड़ (सर्जरी) करना कोई आसान काम नहीं होती है।

जरुर पढ़ें :-नीट की फीस कितनी है

सर्जन कितने प्रकार के होते हैं?

  • लेजर सर्जरी
  • सूक्ष्मशल्य (माइक्रोसर्जरी)
  • रोबोट द्वारा सर्जरी (Robotic surgery )

जरुर पढ़ें :- 12वीं के बाद शिक्षक (Teacher) कैसे बने?

जनरल सर्जन क्या होता है in Hindi?

सामान्य सर्जरी एक सर्जिकल विशेषता है जो अन्नप्रणाली , पेट , छोटी आंत , बड़ी आंत , यकृत , अग्न्याशय , पित्ताशय की थैली , परिशिष्ट और पित्त नलिकाओं और अक्सर थायरॉयड ग्रंथि सहित पेट की सामग्री पर केंद्रित है ।

चेहरा सर्जरी कैसे होता है?

इस सर्जरी में आपके चेहरे में मेडिकल-ग्रेड थ्रेड डालकर आपकी त्वचा को कसने का काम किया जाता है। यह सर्जरी 10 से 12 दिन में ठीक हो जाती है। इसे सबसे कम जोख़िम वाली फ़ेस लिफ़्ट प्रक्रिया भी कहा जाता है, लेकिन इसमें लाली, चोट लगने और सूजन जैसे साइड इफ़ेक्ट भी देखने को मिलते हैं।

जरुर पढ़ें :-ऑनलाइन एक्टिंग कैसे सीखें

डॉक्टर बनने के लिए कितने साल लगते हैं?

डॉक्टर बनने के लिए अलग-अलग प्रकार के कोर्स उपलब्ध हैं तथा अलग-अलग कोर्स का अलग-अलग समय रहता है। यदि आप एमबीबीएस करके डॉक्टर बनना चाहते हैं तो आपको  4 वर्षों का कोर्स करना होता है और साथ ही 1 वर्ष का इंटरशिप करना पड़ता है, उसके बाद आप डॉक्टर बन सकते हैं।

डॉक्टर बनने के लिए 10वीं के बाद क्या करें?

एक डॉक्टर बनने के लिए आपको दसवीं के बाद 12वीं और उसके बाद NEET एग्जाम्स क्लियर करना होता है। डॉक्टर बनने के लिए आपको दसवीं के बाद फिजिक्स केमिस्ट्री और बायोलॉजी लेकर 11वीं और 12वीं की पढ़ाई करना होता है।

फिजिक्स केमिस्ट्री और बायोलॉजी से पढ़ाई करने के बाद आपको एमबीबीएस करना होता है। यदि आप बिना एमबीबीएस के डॉक्टर बनना चाहते हैं, तो एमबीबीएस के समकक्ष के किसी भी मेडिकल कोर्स में दाखिला लेना होता है, उसके बाद आप एक डॉक्टर बन जाते हैं।

जरुर पढ़ें :-12वीं के बाद डॉक्टर कैसे बने?

सर्जन बनने के फायदे तथा नुकसान क्या क्या है

किसी भी फील्ड में आप जाते हैं, तो उसके कुछ फायदे रहते हैं, तो कुछ नुकसान भी रहते हैं, तो चलिए दोस्तों अब हम जानते हैं, कि सर्जन डॉक्टर बनने के क्या-क्या फायदे हैं और क्या-क्या नुकसान है, जोकि निम्नलिखित है:-

सर्जन बनने के फायदे

एक सर्जन का यह सबसे बड़ी फायदे होते हैं कि वह अपने अनुसार काम चुन सकते हैं। कोई चाहे तो सिर्फ बच्चों के साथ काम करना या सिर्फ बुजुर्गों पर ध्यान केंद्रित करना भी कर सकते हैं।

एक सर्जन का काम बेहद फायदेमंद हो सकता है क्योंकि एक सर्जन को लोगों की जान बचाकर उनके जीवन में बदलाव लाने का मौका मिलता है। ऑपरेटिंग रूम में एक सर्जन के तकनीकी ज्ञान और कौशल का रोगी के स्वास्थ्य पर स्पष्ट प्रभाव पड़ता है।

एक सर्जन का जीवन एक ही समय में कठिन चुनौती पूर्व और संतुष्टि दायक हो सकता है और उन पर काम की जिम्मेदारियां रहती है और वह इन जिम्मेदारियों को निभाते हैं।

सर्जन बनने के नुकसान

सर्जन का काम बहुत ही कॉम्प्लिकेटेड काम होती है। एक सर्जन के रूप में आप एक मरीज के जिंदगी के लिए जिम्मेदार होते हैं और आपकी थोड़ी सी भी गलती मरीज की जान ले सकती है।

कभी-कभी डॉक्टर के पास कई अतिरिक्त जिम्मेदारियां भी रहती है जैसे नए डॉक्टरों को प्रशिक्षण देना, शोध करना इत्यादि। इससे वह बर्न आउट हो सकता है और उसके काम के प्रति प्रेरणा और उत्साह कम हो सकती है।

एक सर्जन आम तौर पर काम के बोझ उसे दबे रहते हैं और उन्हें मरीजों की जांच करनी होती है, बैठकों में भाग लेना होता है और उसके पास करने के लिए का की कार्रवाई होती है।

कुछ सर्जनों के लिए यह जिम्मेदारी बहुत अधिक हो सकती है और उन्हें लंबे समय तक काम करना पड़ता है। इस नौकरी की शारीरिक और भावनात्मक आवश्यकताएं किसी के स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकती हैं।

जरुर पढ़ें :-पीसीएस (Pcs) में कौन कौन सी पोस्ट होती है

सर्जन कितने प्रकार के होते हैं | surgeon kitne prakar ke hote Hain

एक सर्जन डॉक्टर बहुत प्रकार के हो सकते हैं उसमें से कुछ मुख्य प्रकारों के बारे में बताने वाला में जो कि निम्नलिखित है:-

  • Neurosurgeon
  • Plastic surgeon
  • Heart surgeon
  • Orthopedic surgeon
  • Pediatric surgeon
  • Oral surgeon
  • Ophthalmic surgeon

Neurosurgeon

ब्रेन से संबंधित सभी प्रकार की बीमारियों को न्यूरो सर्जन ही ठीक करते हैं। न्यूरो सर्जरी में मस्तिष्क में नाजुक ऑपरेशन शामिल हो सकते हैं इसके अलावा रीढ़ की हड्डी या तंत्रिका तंत्र भी शामिल हो सकते हैं उदाहरण के लिए आप पैरों में हाथों के अधिक परिधीय नसों से संबंधित विकारों के विशेषज्ञ डॉक्टर बन सकते हैं।

Plastic Surgeon:

प्लास्टिक सर्जन का काम होता है प्लास्टिक सर्जरी करना जैसे कि फेस को चेंज करना या फेस में तिल हटाना, नाक की सर्जरी करना, चेहरे की सर्जरी करना इत्यादि प्लास्टिक सर्जन का काम होता है।

यदि आपका इंटरेस्ट फेस सर्जरी में है तो आप इस विकल्प को चुन सकते हैं और एक अच्छे प्लास्टिक सर्जन डॉक्टर बन सकते हैं जिस की डिमांड आजकल शहरों में बहुत ज्यादा है

Heart Surgeon:

क्षेत्र में आप हार्ड स्पेशलिस्ट बन सकते हैं जैसे कि नाम से ही पता चलता है कि इसमें हार्ट से संबंधित सभी प्रकार की जानकारियां हासिल कर सकते हैं।

इस क्षेत्र की शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं पर आमतौर पर चर्चा की जाती है, क्योंकि हृदय रोग संयुक्त राज्य अमेरिका में मृत्यु दर के सबसे आम कारणों में से एक है।

Orthopedic Surgeon:

क्षेत्र की पढ़ाई करके आप हड्डी के स्पेशलिस्ट डॉक्टर बन सकते हैं अधिकांश रोगियों को एक साधारण कष्ट की आवश्यकता होती है लेकिन एक ऑर्थोपेडिक सर्जन के रूप में आपको उच्च वर्ग प्रोजेक्टाइल द्वारा बिखरी हड्डियों या कुचला गया हड्डी एक साथ जोड़ने का काम सौंपा जा सकता है।

Pediatric Surgeon:

यदि आप एक हृदय रोग विशेषज्ञ बनना चाहते हैं तो आपके लिए यह सत्र है इस क्षेत्र में आपको हृदय से संबंधित सभी प्रकार की जानकारियों को हासिल कर सकते हैं और उसमें महारत हासिल कर सकते हैं इसके अलावा भी आप ऑन्कोलॉजी, ऑप्थल्मोलॉजी और न्यूरोलॉजी करके भी हृदय रोग विशेषज्ञ बन सकते हैं।

Oral Surgeon:

क्षेत्र में भी मुंह का इलाज कर सकते हैं यदि आप मुंह का जैसे दांत निकालने दुर्घटना से क्षतिग्रस्त मुंह की मरम्मत या दांतो का प्रत्यारोपण करना चाहते हैं तो क्षेत्र आपके लिए है आप इस क्षेत्र में जोरों शोरों से तैयारी करके एक ओरल सर्जन बन सकते हैं।

Ophthalmic Surgeon:

इसमें शरीर के सबसे नाजुक अंग जैसे आंख का सर्जन बनना है तो यह आपके लिए है। इस क्षेत्र में जाकर आप अच्छे से अभ्यास कर सकते हैं और इसकी तैयारी कर सकते हैं। इस चित्र में आप कई प्रकार की समस्याएं का इलाज कर सकते हैं जैसे मोतियाबिंद या ग्लूकोमा से पीड़ित रोगियों की मदद कर सकते हैं।

जरुर पढ़ें :-गणित में कौन कौन सी जॉब होती है?

Conclusion:- सर्जन डॉक्टर कैसे बनें | Surgeon Doctor Kaise Bane

दोस्तों, हम उम्मीद करते है कि आज के इस लेख के माध्यम से आप लोग समझ गए होंगे कि सर्जन डॉक्टर कैसे बने | surgeon doctor kaise bane जिसकी पुरी जानकारी इस लेख के माध्यम से देने का कोशिश किया हूं।

यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो सर्जन डॉक्टर कैसे बने | surgeon doctor kaise bane तो आप  WhatsApp, Facebook के जरिये Share भी कर सकते हे ताकि और भी Students को जानकारी मिल पाए।

आपके मन में कोई सवाल एवं सुझाव हो “सर्जन डॉक्टर कैसे बनें | Surgeon Doctor Kaise Bane” से सम्बन्धित तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे पूछ सकते हैं, से जल्द आपके सवाल का जवाब देने का प्रयास करूंगा, धन्यवाद।

यह भी पढ़ें :-Surgeon Doctor Kaise Bane

2 thoughts on “सर्जन डॉक्टर कैसे बनें | Surgeon Doctor Kaise Bane”

  1. Kya BDS करने के बाद हम सर्जन बन सकते हैं..की केवल mbbs करने से सर्जन बन सकते हैं..??

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *